Jharkhand: भाजपा बोली- तब तक चुप नहीं बैठेंगे, जब तक ‘भ्रष्ट’ हेमंत सरकार बेदखल नहीं हो जाती

बाबूलाल मरांडी (फाइल फोटो)

बाबूलाल मरांडी (फाइल फोटो)
– फोटो : Facebook

ख़बर सुनें

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को कहा कि वह तब तक शांत नहीं बैठेगी, जब तक कि वह झारखंड की ‘भ्रष्ट’ हेमंत सोरेन सरकार को सत्ता से बेदखल नहीं कर देती। पार्टी ने झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेतृत्व वाले गठबंधन पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए 263 ब्लॉक में एक सप्ताह के लिए राज्यव्यापी आंदोलन शुरू किया है। 

भाजपा ने कहा कि वह इस आंदोलन को आगे और तेज करेगी। पार्टी के विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने वादा किया कि अगर भगवा पार्टी अगले चुनाव में सत्ता में लौटती है तो भ्रष्ट नेताओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी। 

मंगलवार की दोपहर गिरिडीह में भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री मरांडी ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और सत्तारूढ़ गठबंधन के अन्य नेताओं ने अपना आपा को दिया है और भगवा पार्टी की हलचल से डर भाजपा कार्यकर्ताओं को धमकाना शुरू कर दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य में कानून-व्यवस्था चरमरा गई है और भ्रष्टाचार व्याप्त है।

राज्य कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष बंधु तिर्की ने सोमवार को पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा था कि अगर जरूरत पड़े तो भाजपा कार्यकर्ताओं की पिटाई करें। उनके बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा के राज्य प्रवक्ता प्रदीप सिन्हा ने कहा, भाजपा कार्यकर्ता जानते हैं कि ‘भ्रष्ट’ झामुमो और कांग्रेस नेताओं को कैसे जवाब देना है। उन्होंने कहा कि वे तब तक चुप नहीं बैठेंगे जब तक कि राज्य में गठबंधन को सत्ता से उखाड़ कर नहीं फेंका जाता। 

सिन्हा ने आगे कहा, भाजपा एक राजनीति पार्टी है, जो झामुमो के नेतृत्व वाले गठबंधन के विपरीत गरिमा और सम्मान बनाए रखने में भरोसा रखती है। उन्होंने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ गठबंधन का लोकतांत्रिक मूल्यों से कोई लेना-देना नहीं है। 

सोरेन को ईडी के समन के खिलाफ राजभवन के पास सत्तारूढ़ यूपीए प्रदर्शन कर रही है। इस धरने प्रदर्शन में तिर्की ने कहा था, हम किसी भी जांच के खिलाफ नहीं हैं। लेकिन, अगर यह राजनीतिक प्रतिशोध के साथ किया जाता है, तो उचित जवाब दिया जाएगा। मैं आग्रह करता हूं कि पार्टी कार्यकर्ता, भाजपा को बेनकाब करें और यदि जरूरी हो तो उनकी पिटाई करें। 

प्रवर्तन निदेशालय ने सोरेन को कथित अवैध खनन से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सोरेने को पूछताछ के लिए तीन नवंबर को एजेंसी के कार्यालय में तलब किया था। लेकिन सोरेन एजेंसी के कार्यालय नहीं पहुंचे। इसके बजाए वह पूर्व निर्धारित एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंच गए। उन्होंने जांच एजेंसी के सामने पेश होने के लिए तीन सप्ताह का समय मांगा है। 

वहीं झामुमो के महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने आरोप लगाया कि जबसे राज्य में झामुमो के नेतृत्व वाला गठबंधन सत्ता में आया है, तब से लोकतांत्रिक रूप से चुनी हुई सरकार को भाजपा अस्थिर करने की कोशिश कर रही है। 

विस्तार

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को कहा कि वह तब तक शांत नहीं बैठेगी, जब तक कि वह झारखंड की ‘भ्रष्ट’ हेमंत सोरेन सरकार को सत्ता से बेदखल नहीं कर देती। पार्टी ने झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेतृत्व वाले गठबंधन पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए 263 ब्लॉक में एक सप्ताह के लिए राज्यव्यापी आंदोलन शुरू किया है। 

भाजपा ने कहा कि वह इस आंदोलन को आगे और तेज करेगी। पार्टी के विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने वादा किया कि अगर भगवा पार्टी अगले चुनाव में सत्ता में लौटती है तो भ्रष्ट नेताओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी। 

मंगलवार की दोपहर गिरिडीह में भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री मरांडी ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और सत्तारूढ़ गठबंधन के अन्य नेताओं ने अपना आपा को दिया है और भगवा पार्टी की हलचल से डर भाजपा कार्यकर्ताओं को धमकाना शुरू कर दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य में कानून-व्यवस्था चरमरा गई है और भ्रष्टाचार व्याप्त है।

राज्य कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष बंधु तिर्की ने सोमवार को पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा था कि अगर जरूरत पड़े तो भाजपा कार्यकर्ताओं की पिटाई करें। उनके बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा के राज्य प्रवक्ता प्रदीप सिन्हा ने कहा, भाजपा कार्यकर्ता जानते हैं कि ‘भ्रष्ट’ झामुमो और कांग्रेस नेताओं को कैसे जवाब देना है। उन्होंने कहा कि वे तब तक चुप नहीं बैठेंगे जब तक कि राज्य में गठबंधन को सत्ता से उखाड़ कर नहीं फेंका जाता। 

सिन्हा ने आगे कहा, भाजपा एक राजनीति पार्टी है, जो झामुमो के नेतृत्व वाले गठबंधन के विपरीत गरिमा और सम्मान बनाए रखने में भरोसा रखती है। उन्होंने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ गठबंधन का लोकतांत्रिक मूल्यों से कोई लेना-देना नहीं है। 

सोरेन को ईडी के समन के खिलाफ राजभवन के पास सत्तारूढ़ यूपीए प्रदर्शन कर रही है। इस धरने प्रदर्शन में तिर्की ने कहा था, हम किसी भी जांच के खिलाफ नहीं हैं। लेकिन, अगर यह राजनीतिक प्रतिशोध के साथ किया जाता है, तो उचित जवाब दिया जाएगा। मैं आग्रह करता हूं कि पार्टी कार्यकर्ता, भाजपा को बेनकाब करें और यदि जरूरी हो तो उनकी पिटाई करें। 

प्रवर्तन निदेशालय ने सोरेन को कथित अवैध खनन से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सोरेने को पूछताछ के लिए तीन नवंबर को एजेंसी के कार्यालय में तलब किया था। लेकिन सोरेन एजेंसी के कार्यालय नहीं पहुंचे। इसके बजाए वह पूर्व निर्धारित एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंच गए। उन्होंने जांच एजेंसी के सामने पेश होने के लिए तीन सप्ताह का समय मांगा है। 

वहीं झामुमो के महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने आरोप लगाया कि जबसे राज्य में झामुमो के नेतृत्व वाला गठबंधन सत्ता में आया है, तब से लोकतांत्रिक रूप से चुनी हुई सरकार को भाजपा अस्थिर करने की कोशिश कर रही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YouTube
YouTube
Instagram
WhatsApp