संथाल परगना स्थापना दिवस: ग्राम प्रधान ने कहा- एसपीटी एक्ट के लिए फिर से तीर-कमान उठाने की जरूरत

जामताड़ा4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
बैठक में मौजूद ग्राम प्रधान। - Dainik Bhaskar

बैठक में मौजूद ग्राम प्रधान।

झारखंड राज्य गठन होने का एकमात्र मकसद था कि एसपीटी सीएनटी पेसा एक्ट शक्ति से लागू होगा, इसके फलस्वरूप आदिवासी व मूलवासी को परंपरागत स्वशासन व्यवस्था का लाभ पूर्ण रूप से मिलेगा। उक्त बातें बुधवार को जिला मुख्यालय सर जामताड़ा के गांधी मैदान में संपन्न परंपरागत ग्राम प्रधान की जिला स्तरीय बैठक में झारखंड विधानसभा के अनुसूचित जाति जनजाति अल्पसंख्यक एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण समिति के सभापति सह बोरिओ विधायक लोबिन हेंब्रम ने कहा। आगे कहा लक्ष्य को लेकर लोगों ने अंग्रेज हुकूमत के विरुद्ध लड़ाई लड़कर सैकड़ों बलिदान को स्वीकार किया।

लड़ाई के उपरांत अंग्रेज ने भी आंदोलनकारियों के संघर्ष को लोहा मानते हुए स्वीकार किया कि इन लोगों की लड़ाई जायज है। एसपीटी तथा सीएनटी लागू होने के बाद भविष्य में भी अनुसूचित क्षेत्रों के मूलवासी आदिवासी का शोषण संभव नहीं होगा। एसपीटी एक्ट सशक्त व समृद्धि कानून तो बनाया गया लेकिन इतने दशक गुजर जाने के बावजूद एसपीटी एक्ट कानून का अनुपालन नहीं हो पा रहा है। संथाल परगना क्षेत्र में एसपीटी एक्ट की खुल्लम खुल्ला उल्लंघन हो रहा है इसका कुपरिणाम यहां के आदिवासी व मूलवासी को भुगतना पड़ रहा है।

एसपीटी एक्ट नहीं बचेगा ताे आदिवासी-मूलवासी कैसे बचेंगे
वर्तमान समय में झारखंडी यों के समक्ष एक ज्वलंतशील सवाल खड़ा हो रहा है जो जब एसपीटी एक्ट ही नहीं बचेगा तो आदिवासी व मूलवासी कैसे बचेंगे। मैं सदन के बाहर तथा भीतर आरंभ काल से मांग करता रहा हूं कि एसपीटी एक्ट सीएनटी एक्ट आधारित स्थानीय नीति नियोजन नीति व पेसा एक्ट संबंधित नियमावली तैयार कर अनुसूचित क्षेत्रों में शत प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित करावे। पेसा एक्ट प्रभाव कारी होता है तो पंचायत स्तरीय चुनाव कराने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। कहा हम हमेशा कहते रहे हैं कि संथाल परगना में एसपीटी एक्ट को धरातल पर प्रभाव कारी बनाने के लिए फिर से एक बार तीर चलाने की जरूरत होगी।

ग्राम स्तरीय परंपरागत प्रतिनिधि अपने संगठन को सशक्त व समृद्ध बनाकर अधिकार के प्रति संघर्ष जारी रखें। प्रत्येक जिले में संगठन की समीक्षा बैठक में शामिल होकर आप सबों की समस्याओं के निदान को लेकर प्रयास करेंगे।

बाेरियाे विधायक काे साैंपा मांग पत्र
मौके पर ग्राम प्रधान संघ के जिला शिष्टमंडल ने मांग पत्र बोरियो विधायक को सौंपा। विधायक ने कहा आगामी विधानसभा की बैठक में ग्राम प्रधान के विभिन्न समस्याओं को प्रमुखता से पटल पर रखा जाएगा और मुख्यमंत्री से समस्याओं के निदान की मांग की जाएगी। बैठक में राज्य सरकार की ओर से पंचायत स्तर पर चल रहे आपकी योजना आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में ग्राम प्रधान को बढ़-चढ़कर भागीदारी सुनिश्चित करने का निर्णय लिया गया।

बैठक में अभी निर्णय लिया गया कि प्रखंड स्तर पर संगठन को सक्रिय बनाने के लिए नियमित बैठक संपन्न की जाए। बैठक में अभी निर्णय लिया गया कि आगामी 20 दिसंबर को संथाल परगना स्थापना दिवस है इस उपलक्ष्य में गांधी मैदान में परंपरागत ग्राम प्रधान के सौजन्य से भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया जाए।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YouTube
YouTube
Instagram
WhatsApp