रेल यात्रियों के महंगे दिन: एसी वेटिंग हॉल में गए तो हर घंटे लगेंगे 15 रुपए

जमशेदपुरएक घंटा पहलेलेखक: ललित दुबे

  • कॉपी लिंक
प्लेटफाॅर्म न. 1 पर बनाया जा रहा एसी लाउंज। - Dainik Bhaskar

प्लेटफाॅर्म न. 1 पर बनाया जा रहा एसी लाउंज।

टाटानगर रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों के लेट होने पर ट्रेनों का इंतजार करना भी महंगा होने वाला है। रेलवे ने कमाई के चक्कर में यात्रियों पर अतिरिक्त बोझ डाल दिया है। चक्रधरपुर रेल डिवीजन ने टाटानगर रेलवे स्टेशन के फर्स्ट क्लास वेटिंग रूम महिला और पुरुष (अलग-अलग कक्ष) और सेकेंड क्लास वेटिंग रूम के एक बड़े हिस्से को निजी एजेंसी को 5 साल के लिए आउट सोर्स कर दिया है। रेलवे ने इसके एवज में 5 साल के टेंडर के बदले कोलकाता के जीनियस इंफोटेक को 1.59 करोड रुपए में टेंडर दिया है।

एजेंसी इन दोनों वेटिंग हॉल का रिनोवेशन करते हुए इसे आधुनिक रूप दे रही है। फर्स्ट क्लास वेटिंग हाॅल और सेकेंड क्लास वेटिंग हाॅल के बड़े हिस्से को एसी लाउंज में तब्दील किया जा रहा है। यहां बैठने के लिए यात्रियों को प्रति घंटा 15 रुपए देने होंगे। वहीं 5 से 12 वर्ष के बच्चों के लिए 8 रुपए प्रतिघंटे का चार्ज लगेगा। रेलवे ने कमाई के चक्कर में आम यात्रियों के जेब पर यह अतिरिक्त बोझ डाल दिया है।

5 साल के लिए रेलवे ने कोलकाता की एजेंसी को 1.59 करोड रुपए में दिया, रिनोवेशन कर दिया जा रहा आधुनिक रूप
चार स्टेशनों का वेटिंग एरिया हुए है आउट सोर्स

टाटानगर, चक्रधरपुर, राउरकेला और झाड़सुगुड़ा के फर्स्ट क्लास वेटिंग एरिया और सेकेंड क्लास वेटिंग के बड़े हिस्सा को आउटसोर्सिंग पर दिया गया है।

चाय-पानी का काउंटर भी रहेगा
एजेंसी पूर्व में बने हुए इन दोनों फर्स्ट क्लास वेटिंग रूम और सेकेंड क्लास वेटिंग रूम के बड़े हिस्से में रिनोवेशन कर रही है। यहां एसी लगाया जा रहा है। इसके साथ ही रंगरोगन किया जा रहा है। बैठने की बेहतर व्यवस्था होगी। जल्द ही यह बेहतर लुक में दिखेगा। वहीं ट्रेन का इंतजार कर रहे लोगो को पानी, चाय और स्नैक्स के आइटम खरीदने पर मिलेगा, इसके लिए काउंटर भी तैयार किया जा रहा है। वहीं यहां पेपर और मैगजीन की भी बिक्री हो सकेगी।

थोड़ी राहत… आधे हिस्से को रेलवे ने रखा है नि:शुल्क: रेलवे ने सेकेंड क्लास वेटिंग हाॅल के आधे से कम हिस्से को नि:शुल्क रखा है। यहां एसी नहीं लगा है। यहां लोग जाकर बैठ सकते है। यहां इंतजार करने पर पैसा नहीं लगेगा।
बदली व्यवस्था… अब तक रेलवे करता था रखरखाव: रेलवे फर्स्ट क्लास वेटिंग रूम और सेकेंड क्लास वेटिंग रूम एरिया का रखरखाव करता था, ट्रेन लेट होने पर यात्री यहां मुफ्त में आराम करते थे। शौचालय व पेयजल की व्यवस्था भी थी।

रेलकर्मी को सुविधा… पहले एक घंटे का नहीं लगेगा चार्ज: रेलकर्मचारियों को फर्स्ट क्लास और सेकेंड क्लास वेटिंग रूम एरिया में पहले एक घंटे के रूकने के लिए पैसे नहीं देने होंगे। ऐसा रेलवे के साथ हुए समझौते में लिखित है।

रेलवे कमाई के चक्कर मेंं कई चीजों को आउटसोर्स कर रही है। वेटिंग एरिया को एजेंसी को देना ठीक नहीं है। निशुल्क सुविधा के बदले अब पैसे देने होंगे। यह यात्रियों पर सीधा बोझ है। -डाॅ. अरूण कुमार तिवारी, महामंत्री, छोटानागपुर पैसेंजर एसोसिएशन।
रेलवे ने यात्रियों को बेहतर सुविधा देने के लिए वेटिंग हाॅल को आउटसोर्स किया है। यहां साफ सुथरा टाॅयलेट, एसी, टीवी की सुविधा यात्रियों को मिलेगी। वेटिंग एरिया में ही चाय काॅफी मिलेगा। इससे लिए कुछ शुल्क लिया जाएगा। -मनीष कुमार पाठक, सीनियर डीसीएम, चक्रधरपुर रेलडिवीजन।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YouTube
YouTube
Instagram
WhatsApp