युवाओं में चुनावी भागीदारी की उदासीनता को समाप्त करना उद्देश्य: शहरी मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए जिला प्रशासन ने बनाए दो दर्जन कैंपस एंबेसडर

गिरिडीह5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
कैम्पस अंबेसडर  के प्रशिक्षण में शामिल अधिकारी व अन्य। - Dainik Bhaskar

कैम्पस अंबेसडर के प्रशिक्षण में शामिल अधिकारी व अन्य।

शहरी मतदान प्रतिशत बढ़ाने काे लेकर प्रशासन ने कमर कस ली है। इसे लेकर बुधवार काे समाहरणालय सभागार में जिला निर्वाचन पदाधिकारी नमन प्रियेश लकड़ा की अध्यक्षता में मतदाता सूची विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम 2023 के तहत कैंपस एंबेसडर का जिला स्तरीय प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने अधिकारियों और कर्मियों को मतदाता सूची विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के सफल क्रियान्वयन को लेकर दिशा निर्देश दिया । उद्देश्य शहरी क्षेत्रों में युवाओं में चुनावी भागीदारी की उदासीनता को समाप्त करना है।

क्या हाेता है वाेटर अवेयरनेस फाेरम :
मतदाता जागरूकता फोरम (वीएएफ) मतदाता सूची में पंजीकरण एवं मतदान की वास्तविक गतिविधियों द्वारा निर्वाचन प्रक्रिया से संबंधित सभी मूलभूत प्रक्रियाओं, विचारों एवं जागरूक चर्चाओं को साझा करने का एक अनौपचारिक मंच है। ईसीआई का लक्ष्य वीएएफ के माध्यम से सभी कारपोरेट, सरकारी एवं गैर-सरकारी संगठनों में मतदाता जागरूकता, शिक्षा को बढ़ावा देना है।

मतदाता बनने के लिए क्या करें
मतदाता बनने के लिए योग्यता 1 जनवरी या 1 अप्रैल या 1 जुलाई या 1 अक्टूबर को 18 साल पूरा होना चाहिए। साथ ही चुनावी क्षेत्र का आम निवासी होना चाहिए । फॉर्म 6- मतदाता के रूप में पंजीकृत होने के लिए डबल्यूडबल्यूडबल्यू.इन पर जा कर या वाेटर हेल्पलाइन ऐप पर डाउनलाेड कर फाॅर्म 6 भरें। फॉर्म 6 को मतदाता पंजीकरण अधिकारी (ईआरओ) या बूथ लेवल अधिकारी (बीएलओ) के पास से भी लिया जा सकता है। फॉर्म 6 के साथ जमा करने के लिए आवश्यक दस्तावेज: एक पासपोर्ट आकार का फोटो, आयु और निवास प्रमाण पत्र संलग्न होने चाहिए।

बीएलओ जांच के लिए आपके द्वारा दिए निवास पर पहुचेंगे। इस जांच के बाद मतदाता फोटो पहचान पत्र या वोटर पहचान पत्र जारी किया जाता है और स्पीड पाेस्ट के माध्यम से मतदाता के घर पर भेजा जाता है। फॉर्म 6 ए- फॉर्म 6 ए का उपयोग प्रवासी मतदाताओं के पंजीकरण के लिए किया जाता है। प्रत्येक प्रवासी मतदाता, जो अन्यथा पंजीकरण के लिए आयोग्य नहीं है, फाॅर्म 6 ए में अपना आवेदन संबंधित निर्वाचक पंजीकरण अधिकारी को सीधे दे सकते हैं अथवा उन्हें डाक के द्वारा भी भेज सकते हैं।

फॉर्म 6 बी – फॉर्म 6 बी का उपयोग मतदाता सूची में मौजूद मतदाताओं की आधार संख्या संग्रहित कर मतदाता सूची की प्रविष्टियों को अधिप्रमाणित करने के लिए किया जाता है। मतदाता सूची से नाम हटाने के लिए फॉर्म 7 का उपयोग किया जाएगा। यदि कोई निर्वाचक कहीं दूसरी जगह चला गया है या उसकी मृत्यु हो चुकी है, तो फॉर्म 7 को भरा जा सकता है। इसका प्रयोग किसी व्यक्ति के योग्य नहीं होने की स्थिति में भी उसका नाम मतदाता सूची में सम्मिलित करने को लेकर आपत्ति दर्ज करने में भी किया जा सकता है।

फॉर्म 8- फॉर्म 8 का उपयोग निर्वाचन क्षेत्र के अंदर या निर्वाचन क्षेत्र के बाहर निवास स्थान बदलने, मौजूदा मतदाता सूची में प्रविष्टियों में सुधार, बिना सुधार के इपिक को दुबारा जारी करने और दिव्यांगता अंकित करने के लिए किया जाता है। किसी भी व्यक्ति को एक से ज्यादा निर्वाचन क्षेत्र अथवा मतदान केंद्र पर मतदाता सूची में पंजीकृत नहीं होना चाहिए। फॉर्म 6, फॉर्म 6ए, 6बी, 7 और 8 ऑनलाइन या ऑफलाइन या वाेटर हेल्पलाइनएेप के माध्यम से समर्पित किया जा सकता है। भारत निर्वाचन आयोग का हेल्पलाईन 1950 है।

वीएएफ में क्या है हमारा काम :
वीएएफ के सदस्य स्वैच्छिक तौर पर संबंधित कार्यालय के सभी कर्मी बन सकते हैं। वीएएफ के सदस्य को ऐसी निर्वाचन प्रक्रिया से संबंधित गतिविधियों में संलग्न किया जाएगा जो सभी सदस्यों को निर्वाचन प्रणाली के विशिष्ट ज्ञान से जोड़ते हुए एक सशक्त मतदाता के तौर पर विकसित करने में सहायक हो। प्रत्येक संगठन अथवा कार्यालय का प्रमुख वीएएफ की अध्यक्षता करेगा। अध्यक्ष एक किसी भी वरिष्ठ अधिकारी को नोडल अधिकारी के रूप में नियुक्त करेगा, इसमें उस अधिकारी को प्राथमिकता दी जाएगी जिन्हें निर्वाचन कार्यों का पूर्व अनुभव हो।

नोडल अधिकारी वीएएफ के संयोजक के रूप में कार्य करेगा और भारत निर्वाचन आयोग या मुख्य निवार्चन अधिकारी या जिला निर्वाचन अधिकारी का कार्यालय के साथ वीएएफ के संसाधनों के लिए समन्वय स्थापित करेगा। भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों के नोडल अधिकारी भारत निर्वाचन आयोग के कार्यालय के साथ समन्वय करेंगे एवं उन्हें वीएएफ संबंधित संसाधनों को ऑनलाइन उपलब्ध कराया जाएगा।

कैम्पस अंबेसडर गिरिडीह कॉलेज, बीएड कॉलेज, आरके महिला कॉलेज, एसपीएस, जीडी बगेड़िया टीजर्स ट्रेनिंग कॉलेज, स्कॉलर बीएड कॉलेज, केएन बक्शी बीएड कॉलेज, ग्रीट टीचर्स ट्रैनिंग कॉलेज, आदर्श कॉलेज राजधनवार आदि से चुना गया है और उन्हें प्रशिक्षण दिया गया।

वीएएफ का विकास एवं महत्व
लोकतंत्र को सुदृढ़ बनाने केलिए निर्वाचन प्रक्रिया में मतदाताओं की जागरूकता एवं नैतिक सहभागिता को विकसित करना महत्वपूर्ण पहलू है। भारत निर्वाचन आयोग निर्वाचन प्रक्रिया में मतदाताओं की गुणवत्ता पूर्ण सहभागिता को सुनिश्चित करने के लिए अपने फ्लैगशिप कार्यक्रम सुव्यवस्थित मतदाता शिक्षा एवं निर्वाचन सहभागिता (स्वीप) के तहत विभिन्न गतिविधियों को संचालित करता है। भारत निर्वाचन आयोग मतदाता शिक्षा को विद्यालयों महाविद्यालयों और समुदायों में मुख्य धारा में लाने के लिए निर्वाचक साक्षरता क्लब जैसी अपनी महत्वाकांक्षी योजनाओं पर कार्य कर रहा है। इसका लक्ष्य सभी आयु वर्ग के भारतीय नागरिकों में मतदाता शिक्षा को प्रसारित करना है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YouTube
YouTube
Instagram
WhatsApp