मनिका में मन रे गा: बिना ग्रामसभा किए 12 पंयायतों में 2522 योजनाओं की कर दी इंट्री, पुर्जी पर बांट दिए 24 करोड़ के काम

लातेहारएक घंटा पहलेलेखक: संजय तिवारी

  • कॉपी लिंक

जिले के मनिका प्रखंड में मनरेगा के तहत टीसीबी ट्रेंच की योजनाओं में लूट की नीयत से मनरेगा साफ्ट में लगातार एमआईएस कर इंट्री की जा रही है । विगत 5 दिनों में ही मनिका प्रखंड के 15 में से 12 पंचायतों में 2522 टीसीबी योजना की इंट्री कर ली गई है। बीडीओ,बिचौलिया, पंचायत प्रतानिधि,सत्ताधारी व विपक्ष के नेता, अभियंता तथा कंप्यूटर ऑपरेटर की सांठगांठ से 24 करोड़ ,21 लाख,12 हजार रुपए गड़बड़ी की आशंका जताई जा रही। इन सबों का लक्ष्य 7 हजार टीसीबी ट्रेंच योजना का इंट्री करना है।

प्रावधान के मुताबिक बिना ग्राम सभा के मनरेगा में किसी भी योजना का चयन नहीं किया जाना है,लेकिन यहां कागज के पुर्जे पर लिखकर बीडीओ को दी गई योजनाओं की इंट्री की जा रही है। जल्दबाजी ऐसी है कि बीडीओ के निर्देश पर कंप्यूटर ऑपरेटर द्वारा डोंगल का पासवर्ड बिचौलिए को दे दिया जा रहा है। ऐसी परिस्थिति में रात में भी योजना की इंट्री की जा रही है। दिलचस्प बात है की एक तरफ प्रखंड विकास पदाधिकारी बिरेंद्र किंडो के द्वारा पत्र निर्गत कर ट्रेंच निर्माण के लिए एमआईएस पर रोक लगाने का निर्देश दिया जाता है ,वहीं एमआईएस को ऑन गोइंग कर एप्रूव किया जा रहा है।

बीडीओ ने पुरानी योजनाओं को पूरा करने के बाद कोई दूसरी की इंट्री करने का दिया है निर्देश
योजनाओं को मनरेगा साफ्ट में एमआईएस इंट्री की जाती है । जिले के उपविकास आयुक्त के विभागीय पत्रांक 1344दिनांक 9/11/22का हवाला देते हुए बीडीओ बीरेंद्र किंडो ने खबर छपने के बाद दिनांक 17/11/22पत्रांक 1049में सभी पंचायत सेवक रोजगार सेवक प्रखंड ऑपरेटरों को निर्देश दिया है की पुरानी योजनाओं को पूर्ण कराए बगैर कोई भी नई योजनाओं की प्रविष्टि मनरेगा साफ्ट में एमआईएस इंट्री नहीं होनी चाहिए। बीडीओ ने पत्र मे स्पष्ट लिखा है कि अगर ऐसा होता है तो इसे भविष्य में योजनाओं में वित्तीय अनियमितता की संभावना होगी। बावजूद धड़ल्ले से मनरेगा साफ्ट में इंट्री करना अपने आप में एक बड़ा सवाल खड़ा करता है ।

रविवार को अवकाश के बाद भी टीसीबी ट्रेंच की 221 इंट्री बढ़ गई
रविवारीय अवकाश के बाद भी टीसीबी ट्रेंच योजना की 221 इंट्री बढ़ गई। मनरेगा साइट पर रविवार की शाम छह बजे तक 2321 योजना की इंट्री दिख रही थी। लेकिन सोमवार की दोपहर तक ही यह बढ़कर 2321 हो गई। इससे इस बात को बल मिल रहा है कि डोंगल का पासवर्ड बिचौलिए द्वारा रात में भी प्रयोग किया जा रहा है। बीडीओ व बिचौलिए की सांठगांठ इंट्री का लक्ष्य 7 हजार रखा गया है।

तीन पंचायतों में किसी भी योजना की इंट्री नहीं बंदुआ पंचायत में सबसे अधिक 393 इंट्री
​​​​​​​मनिका प्रखंड में मनरेगा के तहत विगत चार दिनों में बिचौलिया प्रखंडकर्मियो के साथ स्थानीय नेताओं, पंचायत के जनप्रतिनिधियों की साठगांठ से मनिका पंचायत में 289 ,बंदूआ में 393, बरवैया कला में 253,डोकी में 156,जान्हो में 178,जूंगूर में 161,सिंजो में 207,कोपे में 205,नामुदाग 175,मटलौंग में 134, विशुनबांध 71 व पल्हैया पंचायत में 309 टीसीबी ट्रेंच निर्माण के लिए मनरेगा साफ्ट में इंट्री कराई गई है ।वहीं पंचायत दूंदू राकी कला व बडकाडीह में कोई भी योजना नहीं ली गई है । 3 पंचायतों में एक भी ट्रेंच की योजना की एमआईएस नहीं हुई है। मनिका में मनरेगा के तहत ट्रेंच निर्माण में मनरेगा के नियमों की अनदेखी कर प्रखंड के नेताओं की धौंस दिखाकर पर्ची भेजकर मनरेगा साफ्ट में इंट्री करवाई जा रही है ।

डीसी को योजनाओं की जांच कर कार्रवाई करनी चाहिए- मनरेगा वाॅच के राज्य समन्वयक जेम्स हेरेंज ने कहा कि बिना ग्राम सभा के सारी योजनाएं ली गई हैं। इसमें बीडीओ समेत उपरोक्त सभी जिम्मेवार हैं। जागरूकता नहीं रहने के कारण ऐसा हो रहा है। इस मामले की उपायुक्त को जांच कराकर दोषियों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए,ताकि सरकारी खजाने की बंदरबांट न हो।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YouTube
YouTube
Instagram
WhatsApp