गेस्ट लेक्चर: 10000 में 1 बच्चे को होता है आंख का कैंसर, समय पर इलाज जरूरी

रांची31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
मंच पर अतिथि चिकित्सकों के साथ डॉ. भारती कश्यप। - Dainik Bhaskar

मंच पर अतिथि चिकित्सकों के साथ डॉ. भारती कश्यप।

राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) स्थित क्षेत्रीय नेत्र संस्थान ने पीजी डॉक्टरों के लिए एक गेस्ट लेक्चर का आयोजन किया। हैदराबाद से सेंटर फॉर साइट के डायरेक्टर डॉ. संतोष जी. होनवार ने पीजी छात्रों और वरीय चिकित्सकों को नेत्र संबंधी विकारों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आंख के ऊपर होने वाले ट्यूमर और आंख की प्लास्टिक सर्जरी के विषय में विशेष जानकारी दी।

साथ ही नेत्र के इलाज में नई तकनीक और चिकित्सा पद्धति के विषय में भी बताया। डॉ. होनवार ने कहा कि भारत में प्रत्येक 10,000 बच्चों में एक को रेटिनोब्लास्टोमा होती है। आम बोलचाल की भाषा में इसे आंख का कैंसर कहते हैं। साल में 5 से 6 हजार नए मामले सामने आते हैं। प्रारंभिक जांच में पता चल जाने पर इलाज संभव है।

आंखों की रोशनी बचाई जा सकती है। देर होने पर आंख निकालनी पड़ती है। ऐसे में चाइल्ड स्पेशलिस्ट के पास नहीं, बल्कि आंखों के डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

डॉ. होनवार का हमारे बीच होना बड़ी बात : डॉ. भारती
साइंटिफिक कमेटी झारखंड की चेयरमैन और झारखंड की वरिष्ठ नेत्र चिकित्सक डॉ. भारती कश्यप ने कहा कि डॉ. संतोष जी होनवार आरपी सेंटर एम्स और विदेशों से प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके हैं। उनका हमारे बीच होना बड़ी बात है। राज्यभर के छात्रों को उनके लेक्चर से काफी फायदा होगा।

रिम्स में बेहतर नेत्र चिकित्सा देना उद्देश्य : डॉ. आरके गुप्ता

रिम्स के नेत्र विभाग के एचओडी डॉ. आरके गुप्ता ने कहा कि गेस्ट लेक्चरर के रूप में डॉ. संतोष का हमारे बीच होना काफी लाभदायक साबित हुआ है। रिम्स को उच्चस्तरीय नेत्र चिकित्सा संस्थान के रूप में विकसित करने का प्रयास है। कॉर्निया ट्रांसप्लांट को लेकर काम कर रहे हैं।

ये रहे मौजूद : कार्यशाला में बोकारो जेनरल हॉस्पिटल, गांधीनगर सीसीएल हॉस्पिटल, कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल में डीएनबी कर रहे छात्र सहित रिम्स के नेत्र विभाग के डॉ. राहुल प्रसाद, डॉ. अभिषेक सिन्हा आदि शामिल हुए।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YouTube
YouTube
Instagram
WhatsApp