अधीक्षण अभियंता की गलत ढंग से हुई नियुक्ति: अभियंता प्रमुख की जगह अधीक्षण अभियंता को बनाया भवन निर्माण निगम का ईडी, मुख्य सचिव ने दिए जांच के आदेश

  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Superintendent Engineer Was Made ED Of Building Construction Corporation In Place Of Chief Engineer, Chief Secretary Ordered For Investigation

रांची10 मिनट पहलेलेखक: जीतेंद्र कुमार

  • कॉपी लिंक
विभाग के सचिव सुनील कुमार सिंह करेंगे जांच, जबकि ईडी की नियुक्ति ही उनकी सहमति से की गई - Dainik Bhaskar

विभाग के सचिव सुनील कुमार सिंह करेंगे जांच, जबकि ईडी की नियुक्ति ही उनकी सहमति से की गई

भवन निर्माण निगम के प्रभारी एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर (ईडी) के पद पर संजय कुमार सिंह की नियुक्ति विवादों में आ गई है। लगभग 3000 करोड़ के विभिन्न प्रोजेक्ट का काम कर रहे निगम के इस महत्वपूर्ण पद पर अधीक्षण अभियंता की गलत ढंग से हुई नियुक्ति की शिकायत 16 अक्टूबर 2022 को मुख्य सचिव(सीएस) से की गई थी, जिस पर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने 17 अक्टूबर को ही जांच के आदेश दे दिए। जांच और कार्रवाई भवन निर्माण विभाग के सचिव सुनील कुमार सिंह करेंगे।

हालांकि संजय कुमार की नियुक्ति सुनील कुमार की सहमति से ही हुई थी। बता दें कि इस मामले की शिकायत प्रवर्तन निदेशालय(ईडी) से भी की गई है। इस मामले में विभागीय सचिव सह निगम अध्यक्ष सह निगम के एमडी सुनील कुमार और प्रभारी ईडी संजय कुमार सिंह का पक्ष लेने की कोशिश की गई, पर दोनों ने जवाब नहीं दिया।

जानिए…कैसे नियम विरुद्ध हुई संजय कुमार सिंह की नियुक्ति
18 अप्रैल 2016 को तत्कालीन अपर मुख्य सचिव योजना सह वित्त अमित खरे की अध्यक्षता में भवन िनर्माण निगम बोर्ड की बैठक हुई थी। इसमें लिए गए निर्णय के तहत निगम के ईडी पद पर नियुक्त होनेवाले अधिकारी की योग्यता तय की गई थी, जिसके अनुसार भवन निर्माण विभाग के इंजीनियर इन चीफ को ईडी बनाया जा सकता है या सिविल में बीई और एमबीए डिग्री के साथ 25 वर्षों के अनुभव वाले इंजीनियर भी ईडी के पद पर नियुक्ति पा सकते हैं। एक शर्त यह भी थी कि वह 300 करोड़ के सिंगल प्रोजेक्ट का निर्माण कराया हो।

लेकिन भवन निर्माण विभाग की सहमति से भवन निर्माण निगम ने 7 अप्रैल 2021 को बगैर निगम बोर्ड की सहमति के पथ निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता रैंक के अधिकारी संजय कुमार सिंह को ईडी बना दिया। सिंह वर्तमान में मूल रूप से भवन िनर्माण विभाग में प्रभारी मुख्य अभियंता के पद पर कार्यरत हैं। दिलचस्प यह भी है कि प्रोफेशनल पर्सन की ईडी के पद पर नियुक्ति के लिए विभाग द्वारा कोई विज्ञापन भी प्रकाशित नहीं किया गया।

सभी भवनों का निर्माण निगम ही करता है
भवन निर्माण निगम का गठन राज्य में विभिन्न विभागों के महत्वपूर्ण भवनों के निर्माण के लिए किया गया है। नियमानुसार इसके निदेशक मंडल में अध्यक्ष, प्रबंध निदेशक के अलावा गृह, योजना, नगर विकास, ऊर्जा, पेयजल, भू-राजस्व एवं वन पर्यावरण विभाग के सचिव इसके सदस्य होते हैं। भवन निर्माण सचिव निगम के पदेन अध्यक्ष होते हैं। एमडी और ईडी की नियुक्ति भी विज्ञापन के अाधार पर तय योग्यता के तहत की जानी है।

हालांकि निगम बनने के बाद से इसके एमडी और ईडी पद पर किसी प्रोफेशनल की नियुक्ति नहीं हुई। अधिकतर समय भवन निर्माण सचिव ही इसके अध्यक्ष और एमडी रहे। साथ ही भवन निर्माण विभाग के इंजीनियर इन चीफ को इसका ईडी बनाया गया।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YouTube
YouTube
Instagram
WhatsApp